Benefit of home loan for ladies | अधिकतर महिलाएं ले रही हैं होम लोन, जानिए इसके फायदे

   

दोस्तों, इस लेख के माध्यम से आज हम Benefit of home loan for ladies से संबंधित बात करने वाले हैं | आजकल देखने में आ रहा है किअधिक से अधिक महिलाएं होम लोन ले रही हैं। महिलाओं को घर का मालिक बनने के लिए प्रोत्साहन के तौर पर Benefit of home loan for ladies के लिए लाभ भी प्रदान किए जाते हैं। बैंक बाजार के होम लोन रिफाईनेंसिंग इन 2021 से संबंधित प्राइमर के अनुसार महिलाएं बड़ी राशि के होम लोन ले रही हैं। जिसकी वजह से लोग ज्यादा जगह और पर्सनल स्पेस की चाहत रखने लगे हैं और साथ में घर खरीदने की अपनी आकांक्षाओं को भी पूरा करना चाहते हैं। इन सब की जानकारी के लिए कृपया आप इस लेख को अंत तक पढ़ें | 

यह देखा जा सकता है कि अधिक से अधिक महिलाएं अपने प्रॉपर्टी की मालिक बन रही हैं क्योंकि अनेक वर्किंग महिलाएं ये मानने लगी हैं कि घर का मालिक बनना एक बड़ी प्राथमिकता है। Benefit of home loan for ladies को घर का मालिक बनने के लिए प्रोत्साहन के तौर पर लाभ भी प्रदान किए जाते हैं जिनमें होम लोन पर प्रिफेरेंशियल रेट्स तथा प्रोपर्टी रजिस्ट्रेशन पर कम चार्ज शामिल हैं।

Improving loan approval prospects – लोन की मंजूरी की संभावनाओं को सुधारना

साथियों, ऐसा साबित हुआ है कि महिलाएं समय पर और पूरी रिपेमेंट करके क्रेडिट को बेहतर मैनेज कर पाने में सफल रहती हैं। इसलिए, महिला बोरोअर या को-बोरोअर को शामिल करने से लोन प्राप्त करने की संभावना बढ़ जाती है। अच्छी क्रेडेंशियल जैसे हाई क्रेडिट स्कोर और स्थिर आय वाले को-बोरोअर से आपकी लोन पात्रता योग्यता हो सकती है, और आपको आसानी से मंजूरी मिल सकती है। को-बोरोइंग करने से लोन के सभी को-बोरोअर्स के बीच में लोन का भुगतान करने की दायित्व भी बंट जाता है। इससे एकल बोरोअर द्वारा महसूस किए जाने वाले भार में कमी होती है और रिपेमेंट जोखिमों में भी कमी होती हैं।           

 low interest rates – कम ब्याज दरें

महिलाएं, फिर चाहें वे प्राइमरी या सेकण्डरी आवेदक ही क्यों न हों, उनको पुरुषों की तुलना में कम दरों पर होम लोन मिलता है। अधिकांश मामलों में यह फर्क 0.05 प्रतिशत (5 बेसिस प्वाइंट) से 0.1 प्रतिशत (10 बेसिस प्वाइंट) के बीच में हो सकता है। उदाहरण के लिए,Benefit of home loan for ladies अगर किसी पुरुष बोरोअर को 6.75% प्रति वर्ष की दर से होम लोन ब्याज दर की ऑफर की जाती है, और यदि वह अपनी पत्नी को सह-आवेदक के रूप में शामिल करता है और सम्पत्ति का संयुक्त स्वामी बनाता है, तो दर को कम करके 6.65% प्रति वर्ष किया जा सकता है। हालांकि यह अंतर मार्जिनल है, लेकिन इससे आपको निम्न इक्वेटेड मासिक किस्तें (ईएमआई) प्राप्त करने में मदद मिलती है और लोन की पूरी अवधि के दौरान आपके ब्याज की कुल अदायगी में कमी होती है, जिससे आपके कैश फ्लो में सुधार होता है। आइये इसे एक उदाहरण से बेहतर समझते हैं।

मान लीजिए कि कोई पुरुष बोरोअर 20 वर्ष की अवधि के लिए 40 लाख रुपए का होम लोन लेता है। उसकी ईएमआई 30,415/- रुपए की होगी अगर ब्याज की दर 6.75% प्रति वर्ष है, और वह कुल 32,99,494/- रुपए के ब्याज की अदायगी करेगा। अगर किसी पात्र महिला के सह-आवेदक बनने पर, उधारदाता ब्याज दर कम करके 6.65% प्रति वर्ष कर देता है और प्रभावी ईएमआई कम होकर 30,177/- हो जाती है और इस तरह से कुल ब्याज अदायगी कम होकर 32,42,531/- रुपए हो जाती है। इसलिए महिला सह-आवेदक के कारण दीर्घकाल में लगभग 57,000/- रुपए की बचत होती है।             

long periods – लंबी अवधियां

प्राइमरी आवेदक के तौर पर महिलाओं को 30 वर्ष तक की अवधि या जब तक वे 70 वर्ष की नहीं हो जाती हैं, दोनों में से जो भी पहले हो, तक रिपेमेंट अवधि दी जाती है। पुरुषों के लिए, यह 20 वर्ष या 65 वर्ष, इनमें से जो भी पहले हो, हो सकती है। Benefit of home loan for ladies उदाहरण के लिए, यदि पति की आयु 50 वर्ष की है जबकि पत्नी की आयु 45 वर्ष की है, तो बैंक द्वारा उन्हें केवल 15 वर्ष की रिपेमेंट अवधि का ही विकल्प दिया जाएगा, अगर केवल पति द्वारा ही लोन के लिए आवेदन किया जाता है। लेकिन, यदि वह अपनी पत्नी को सह-आवेदक और सम्पत्ति के संयुक्त आवेदक के रूप में शामिल करता है, तो उन्हें 25 वर्ष की लोन रिपेमेंट अवधि प्रदान की जाएगी।       

Stamp duty fee exemption – स्टाम्प ड्यूटी फीस में छूट

किसी सम्पत्ति को लेने की कुल लागत में स्टाम्प ड्यूटी भी शामिल होती है। Benefit of home loan for ladies को घर खरीदने के लिए आमतौर पर 1-2 प्रतिशत की स्टाम्प ड्यूटी में छूट दी जाती है। इसके मायने हैं कि यदि सम्पत्ति की कीमत 40 लाख रुपए है, और वह 40,000/- से 80,000/- रुपए की राशि की बचत स्टाम्प ड्यूटी चार्जेस में कर सकती है।    

Stamp duty fee exemption – स्टाम्प शुल्क में छूट

संयुक्त होम लोन में सभी को-बोरोअर्स को ब्याज और मूल राशि के भुगतान के लिए टैक्स कटौती लाभों का दावा करने का अवसर मिलता है। आयकर अधिनियम की धारा 80 सी और 24 के अनुसार, सम्पत्ति के सह-स्वामियों के रूप में सभी को-बोरोअर्स चुकाए गई मूल राशि के लिए 1.5 लाख रुपए का टैक्स कटौती लाभ के रूप में और अदा किए गए ब्याज के लिए और 2 लाख रुपए का टैक्स कटौती लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

प्राइमरी होम लोन आवेदक के रूप में किसी महिला के लिए बड़ा लोन प्राप्त करने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इसके अलावा,Benefit of home loan for ladies के लिए सरकार प्रधान मंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के जरिए महिलाओं को क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी प्राप्त करने के लिए भी प्रोत्साहित करती है। पीएमएवाई के अनुसार, सम्पत्ति के रजिस्ट्रेशन के लिए परिवार की किसी महिला के नाम को शामिल करना अनिवार्य है। इसके अलावा, यदि किसी महिला द्वारा इस क्रेडिट-लिंक्ड सब्सिडी स्कीम के जरिए लोन लिया जाता है, तो वह 6% तक ब्याज सब्सिडी प्राप्त कर सकती है।

How do women get home loan – महिलाओं को होम लोन कैसे मिलता है       

कोई भी महिला प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत होम लोन पर सब्सिडी प्राप्त कर सकती है |

1.होम लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज

2.भरा हुआ आवेदन फॉर्म

3.पहचान प्रमाण – आधार कार्ड, पेन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस

4.निवास प्रमाण – टेलीफोन, बिजली, पानी का बिल, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड

5.पासपोर्ट साइज़ फोटो        

Which are the best public banks for women home loans in 2022 –  महिलाओं के लिए होम लोन 2022 में सबसे अच्छे पब्लिक बैंक कौन से हैं ?

वर्तमान में ब्याज दरों के अनुसार, SBI, HDFC, ICICI बैंक और PNB महिला होम लोन देने वाले सबसे  अच्छा बैंक है |

Do banks give 100% home loan – क्या बैंक 100 प्रतिशत होम लोन देते हैं ?  

बैंक और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां कभी भी संपत्ति की लागत का 100% लोन के रूप में वित्त नहीं देती हैं। आम तौर पर, फाइनेंसर उधारकर्ता से लागत का 10% से 30% की राशि उनके खुद के पास से लगाने को कहते हैं। 

जी हां, साथियों इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको Benefit of home loan for ladies के लिए  लोन संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी | यह आर्टिकल अगर आपको अच्छा लगा तो लाइक करें और अपने साथियों के साथ शेयर करें ताकि उनको भी यह जानकारी मिल पाए |   

Disclaimer :- 

यह लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए |  

यह भी पढ़ें:-