Top news today in hindi | आज की ताजा खबर 15 Sep,2022

आज की ताजा खबर की सुर्खियों में पढ़िए:-

* केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल  देश के कुछ जातियों अनुसूचित जनजातियों की सूची में शामिल किया जायेगा। इसमें छत्तीसगढ़ की बृजिया समुदाय, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के ट्रांस-गिरी क्षेत्र में निवास करने वाली हट्टी समुदाय और तमिलनाडु की पहाड़ियों में रहने वाले नारिकुरावर समुदाय को अनुसूचित जनजाति में शामिल करने की मंज़ूरी दी गई हैं।

* गोवा राज्य में कांग्रेस के 11 विधायकों में से आठ विधायकों ने अपनी पार्टी छोड़ दिया है। सभी विधायक मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के साथ विधानसभा पहुंचे और विधानसभा अध्यक्ष रमेश तावकर को कांग्रेस से अलग होने की चिट्ठी  सौंपने के तुरंत बाद ही गोवा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सदानंद तनवड़े ने सभी विधायकों को बीजेपी की सदस्यता दिलाई।  

* एलिजाबेथ द्वितीय के राजकीय अंतिम संस्कार में भारत के राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू लंदन जाएंगी। भारत सरकार की ओर से संवेदना व्यक्त करने के लिए इसमें शामिल होंगी। एलिजाबेथ का अंतिम संस्कार 17-19 सितंबर 2022 को होने जा रहा है।  

*आम आदमी पार्टी  गुजरात में विधानसभा चुनाव से पहले यहाँ काफी मेहनत कर रही है। इसी बीच अहमदाबाद में आम आदमी पार्टी को एक बड़ा झटका लगा है। नेता शाकिर शेख ने पार्टी पर आरोप लगते हुए इस्तीफा दे दिया है इन्होंने आरोप में कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं को दरकिनार करते हुए पैसों वालों को टिकट दे रही है। 

* हिंदी दिवस के अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि हिंदी भाषा प्रतिस्पर्धी नहीं है, बल्कि देश की अन्य सभी भाषाओं की “मित्र” है। अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन में बोलते हुए, गृह मंत्री ने कहा कि कुछ लोग देश में अफवाहें फैला रहे हैं कि हिंदी और गुजराती, हिंदी और तमिल, हिंदी और मराठी प्रतिस्पर्धी हैं। हिन्दी एक राजभाषा के रूप में पूरे देश को एकता के सूत्र में बांधती है।

* प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 और 16 सितंबर को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए उज्बेकिस्तान जाएंगे।    

* एशिया कप 2022 में बेहतर प्रदर्शन के कारण बल्लेबाज विराट कोहली और प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रहे श्रीलंकाई बॉलिंग ऑलराउंडर वनिंदु हसरंगा को टी-20 इंटरनेशनल रैंकिंग में इसका फायदा मिला है। टी-20 इंटरनेशनल बल्लेबाजों की रैंकिंग में विराट कोहली 15वें पायदान पर आ गए हैं। गेंदबाजों की रैंकिंग में वनिंदु हसरंगा टी-20 में छठे नंबर पर पहुंच गए हैं। भारतीय महिला टीम और इंग्लैंड महिला टीम के बीच भिड़त आज होगी। दोनों टीमे शाम 6 बजे मैदान पर उतरेंगी।ये मैच काउंटी क्रिकेट ग्राउंड, ब्रिस्टल में होगा। इस  मुकाबले को लेकर दोनों टीमों में काफी उत्साह दिख रहा है। 

* दिल्ली विश्वविद्यालय में तीन दिन पहले शुरू हुई पंजीकरण प्रक्रिया में डीयू की 70 हजार सीटों के लिए 50 हजार से अधिक पंजीकरण किए जा चुके हैं। पंजीकरण प्रक्रिया तीन अक्टूबर तक चलेगी, ऐसे में पंजीकरण की संख्या अभी और बढ़ेगी। दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक में दाखिले के लिए पंजीकरण जारी है। तीन दिन पहले शुरू हुई पंजीकरण प्रक्रिया में डीयू की 70 हजार सीटों के लिए 50 हजार से अधिक पंजीकरण किए जा चुके हैं। पंजीकरण प्रक्रिया तीन अक्टूबर तक जारी रहेगी, ऐसे में पंजीकरण का आंकड़ा काफी बढ़ने की संभावना है। मालूम हो कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के कॉमन यूनिवर्सिटी टेस्ट के आवेदन फॉर्म में करीब छह लाख 14 हजार छात्रों ने डीयू को अपने प्राथमिकता विकल्प के रूप में चुना है। इससे पहले मंगलवार को 34, 039 छात्रों ने पोर्टल पर पंजीकरण कराया था। जबकि सोमवार को यह संख्या करीब 20 हजार थी। 

दिल्ली विश्वविद्यालय में स्नातक कोर्सेज की कटऑफ में छात्राओं को मिलती आ रही छूट इस बार नहीं मिलेगी। लगभग बीस कॉलेज छात्राओं को करीब एक से पांच फीसदी की छूट देते थे। इस साल डीयू में दाखिले कटऑफ की जगह सीयूईटी स्कोर से होने के कारण इस व्यवस्था को खत्म कर दिया गया है। लड़कियों को उच्च शिक्षा में आगे बढ़ावा देने के लिए यह छूट दी जाती थी। डीयू दाखिले से जुड़े अधिकारियों के अनुसार इस सत्र से दाखिले कटऑफ की जगह कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस टेस्ट (सीयूईटी) के स्कोर के आधार पर तैयार होने वाली मेरिट से किए जाएंगे। 

डीयू का तर्क है कि इसी कारण से इस व्यवस्था को समाप्त किया गया है। वहीं, छात्रों के अनुपात में छात्राओं की संख्या भी अधिक है। इस तरह से पहले से ही छात्र-छात्राओं की संख्या के बीच संतुलन बना हुआ है। इस कारण से इस व्यवस्था को जारी रखने का कोई औचित्य नहीं है। चूंकि इस बार सीयूईटी की ओर से जारी स्कोर से डीयू कोर्स की योग्यता के अनुसार मेरिट जारी करेगा। ऐसे में मेरिट तैयार करने में कॉलेज की भूमिका खत्म हो गई है। जबकि बीते साल तक प्रत्येक कॉलेज अपनी-अपनी कटऑफ जारी करते थे। मालूम हो कि बीते साल तक यदि किसी कॉलेज में किसी कोर्स की कट ऑफ 98 फीसदी होती थी तो छात्रा को एक फीसदी की छूट मिलने के कारण यह कट ऑफ 97 फीसदी हो जाती थी।