loan lena sahi ya galat | लोन लेना सही है या गलत, जानिए बैंक से कब लोन लेना चाहिए ?  

साथियों आज हम लोन से संबंधित कुछ जरूरी बातें आपके साथ शेयर करेंगे | कृपया आप इस आर्टिकल को अंत कर पढ़ें और समझें क्या loan lena sahi ya galat है ? लोन लेना सब सही है और कब गलत इन बातों को रखें ध्यान , तो सही फैसला करने में आसानी होगी | 

तो आइए साथियों जानते हैं loan lena sahi ya galat 

लोन लेना हमेशा न तो गलत हो सकता है और न ही हर बार सही हो सकता है | दरअसल उधार लेना अच्छा है या बुरा, इसका फैसला करने से पहले यह देखना जरूरी है कि हम जो कर्ज लेन रहे हैं उसकी वजह क्या है ? 

लोन लेना कोई अच्छी बात नहीं है 

यह बात हम सबने ना जाने कितनी बार सुनी होगी और इस बात को मान भी लिया होगा | लेकिन क्या मसला उतना ही सीधा और एकतरफा है, जितना आमतौर पर लोग मान लेते हैं ? क्या कर्ज लेना हमेशा बुरा ही होता है ? आपके द्वारा यह सवाल करने पर कर्ज ना लेने की हिदायत देने वाले पलट कर पूछ सकते हैं –  तो क्या उधार लेना अच्छी बात है ? दरअसल, दोनों ही बातें ना तो पूरी तरह सही हैं और ना ही पूरी तरह गलत | लोन लेना अच्छा भी हो सकता है और बुरा भी | आप कहेंगे, भला यह भी कोई बात हुई ! इससे तो कन्फ्यूजन और भी बढ़ गया, तो आइए loan lena sahi ya galat आपका कन्फ्यूजन दूर करते हैं |  

लोन के मकसद से होगा सही गलत का फैसला 

दोस्तों असल में लोन लेना सही है या गलत, इसका फैसला करने से पहले यह देखना जरूरी है कि लोन लेने की वजह क्या है ? यानी लोन लिए गए पैसों का इस्तेमाल कैसे किया जाना है | जी हां, अगर लोन के पैसों से आप कोई ऐसी चीज खरीदने जा रहे हैं जिससे आपकी नेटवर्क में इजाफा होने वाला यानी कोई संपत्ति खड़ी होने वाली है, तो कर्ज लेना अच्छा भी हो सकता है | या फिर आप लोन की रकम से अगर कोई ऐसा निवेश करने जा रहे हैं जिसमें रिटर्न की दर कर्ज पर चुकाया जाने वाले ब्याज की दर से ज्यादा हो, तो भी लोन लेना अच्छा साबित हो सकता है | 

लेकिन अगर आप लोन की रकम का इस्तेमाल सिर्फ उपभोग के लिए करने वाले हैं या फिर किसी ऐसी चीज को खरीदने जा रहे हैं, जो अभी तो कीमती है, लेकिन जिसका मूल्य समय के साथ-साथ घटने वाला है तो लोन लेने से आपके फैसले पर सवालिया निशान लग जाता है | लोन लेने से पहले इस फार्मूले पर विचार करेंगे तो loan lena sahi ya galat का फैसला करना आपके लिए आसान होगा |  

इन कारणों से लोन लेने में हर्ज नहीं  

अब भी थोड़ा बहुत कंफ्यूजन है,तो उसे दूर करने के लिए अच्छे लोन के कुछ उदाहरण देख लेते हैं | इन लोन को लेने में आमतौर पर कोई हर्ज नहीं है, लेकिन कर्ज की रकम ऋण अदायगी की क्षमता को ध्यान में रखते हुए लिया जाना चाहिए | 

एजुकेशन लोन 

खुद अपनी या अपने बच्चों की पढ़ाई लिखाई के लिए लोन लेने में हर्ज नहीं है | क्योंकि शिक्षा ना सिर्फ आपकी या आपके बच्चों की जिंदगी को बेहतर बनाने में योगदान करती है, बल्कि इससे व्यक्ति की कमाने की क्षमता भी बढ़ती है | बेहतर शिक्षा प्राप्त व्यक्ति को अच्छा रोजगार हासिल करने की संभावना भी ज्यादा होती है | किसी टेक्निकल या प्रोफेशनल डिग्री को हासिल करने के लिए लिया गया लोन,उस डिग्री के आधार पर बेहतर रोजगार या आय अर्जित कर के कुछ ही वर्षों में लोन चुकाया जा सकता है | हालांकि loan lena sahi ya galat सभी डिग्री की रोजगार के लिहाज से अहमियत बराबर नहीं होती, इसलिए आय की संभावना और लोन के आकार की तुलना करके ही इस बारे में सही फैसला करना चाहिए | 

बिजनेस लोन 

नया बिजनेस शुरू करने या पहले से चल रहे बिजनेस को विस्तार करने के लिए लोन लेने में कोई बुराई नहीं है | दुनिया के बड़े से बड़े बिजनेसमैन किसी न किसी रूप में लोन लेकर ही आगे बढ़े हैं | लेकिन बिजनेस में सफलता की उम्मीद के साथ ही नाकामी का जोखिम भी छुपा होता है | इसलिए लोन लेने से पहले एक अच्छा बिजनेस प्लान बनाना जरूरी है ताकि जोखिम को कम से कम रख कर सफलता की संभावना को बढ़ाया जा सके | 

घर खरीदने के लिए लोन लेना सही है या गलत 

घर खरीदने के लिए loan lena sahi ya galat  में कोई हर्ज नहीं है,बशर्ते लोन की रकम इतनी हो, जिसकी EMI आप आसानी से चुका सकें |इसका एक आम फॉर्मूला यह है कि होम लोन की EMI आपकी नियमित आमदनी के 40 फ़ीसदी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए | अगर आप अपने रहने के लिए लोन लेकर घर खरीदते हैं, तो इसके कई लाभ हैं | सबसे पहले तो आपको किराया नहीं देना होगा | दूसरे, अगर आप नौकरी करते हैं तो होम लोन पर टैक्स छूट भी मिलती है  | तीसरी और अहम बात यह है कि कुछ बरसों के बाद अगर आपको किसी वजह से घर बेचना नहीं पड़ता है, तो आमतौर पर उसकी मार्केट वैल्यू का फायदा भी मिलता है | अगर आपके पास एक से ज्यादा घर हैं तो एक घर को किराए पर देकर उसे नियमित आय का जरिया भी बना सकते हैं | 

इन कामों के लिए लोन ना लें तो होगा बेहतर  

दोस्तों अब देखते हैं कुछ ऐसे लोन के उदाहरण,जिनसे बचने में ही भलाई है |अगर इनमें से कोई लोन लेना बहुत जरूरी हो,जो भी कम से कम रकम और कम अवधि के लिए लेना चाहिए जो निम्न है |

पर्सनल लोन लेना सही है या गलत 

ऊंची ब्याज दरों वाले पर्सनल लोन से भी जितना बचा जा सके इतना बेहतर है | लेकिन अगर कोई क्रेडिट कार्ड से बेहद ऊंची ब्याज कर वाले लोन को चुकाने के लिए या बेहद कम समय की कोई इमरजेंसी जरूरत पूरी करने के लिए शॉर्ट टर्म फाइनेंस के तौर पर पर्सनल लोन का इस्तेमाल करता है तो ऐसा कर्ज लेना सही भी हो सकता है | कई बार पुरानी कार खरीदने वालों के लिए पर्सनल लोन लेना ऊंची दर वाले यूज्ड कार लोन लेने के मुकाबले बेहतर फैसला साबित होता है | 

शेयर बाजार में निवेश के लिए लोन 

अगर आप शेयर बाजार के माहिर खिलाड़ी हैं और आप उसमें निवेश करके पैसे बनाने की कला जानते हैं, तो आप लोन लेकर भी पैसा लगा और कमा सकते हैं | किसी ब्रोकरेज फर्म या बैंक के मार्जिन अकाउंट में भी आपको शेयर खरीदने के लिए एक तरह का कम समय का लोन ही देते हैं | हालांकि शेयर बाजार में निवेश हमेशा जोखिम भरा होता है इसलिए नौसीखिए और गैर-अनुभवी निवेशकों को ऐसे किसी लोन से दूर ही रहना चाहिए | 

पुराना लोन चुकाने के लिए नया लोन लेना सही है या गलत

अगर आप कम इंटरेस्ट वाला लोन लेकर पुराने ज्यादा ब्याज दर वाले लोन को चुका सकते हैं तो यह एक अच्छा कदम हो सकता है | लेकिन loan lena sahi ya galat इस बारे में कोई भी फैसला करने से पहले दोनों तरह के कर्ज़ों पर लागू ब्याज दरों के अलावा उससे जुड़ी अन्य शर्तों और लोन ट्रांसफर पर होने वाले खर्च पर भी अच्छी तरह विचार कर लेना चाहिए | अगर आप किसी बैंक के नए कर्ज़ों पर ऑफर किए जा रहे रेट से प्रभावित होकर लोन ट्रांसफर करने की सोच रहे हैं, तो यह भी ध्यान रखें कि आपको नए लोन के लिए प्रोसेसिंग फीस और पुराने लोन पर फोर क्लोजर चार्ज देना पड़ सकता है उतना ही नहीं कई बार बैंकों के टीजर रेट सिर्फ 1 साल के लिए होते हैं उसके बाद रेट बढ़ा दिए जाते हैं जिससे कहीं ऐसा ना हो कि आप फिर से पहले वाली स्थिति में हीं आ जाएं | और लोन ट्रांसफर पर हुआ खर्च बेकार चला जाए तो इस बारे में कोई भी फैसला सभी बातों पर गौर करने के बाद ही करें | 

कुछ लोन अच्छे भी हो सकते हैं और बुरे भी 

कुछ लोन ऐसे भी होते हैं, जिन्हें आप आसानी से सही या गलत के बीच बांट नहीं सकते | यह लोन लेने चाहिए या नहीं यह आपकी आर्थिक स्थिति और विशेष जरूरतों पर निर्भर होता है | इनमें कुछ लोग ऐसे भी हो सकते हैं जिन्हें लेना किसी एक व्यक्ति के लिए सही हो सकता है तो दूसरे के लिए गलत | 

महंगे कपड़े, घड़ियों या मोबाइल के लिए लोन 

कपड़े इंसान की जरूरत है, लेकिन अपनी आर्थिक स्थिति से बाहर जाकर महंगे कपड़ों के शौक को पूरा करने के लिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके महंगा लोन लेना, फाइनेंसियल समझदारी के लिहाज से सही नहीं है | यही बात महंगी गाड़ियों या मोबाइल के खरीद पर भी लागू होती है | इन तमाम चीजों में लगाए गए पैसे आपको कोई रिटर्न नहीं देती है सिर्फ खर्च होते हैं | इसलिए इन्हें खरीदने के लिए लोन लेकर उस पर इंटरेस्ट भरने में तो अकलमंद का काम नहीं है | 

कार लोन 

होम लोन के बाद मध्यमवर्गीय लोग शायद सबसे ज्यादा कार लोन ही लेते हैं | लेकिन यह एक ऐसा कर्ज है जिस से बचना चाहिए हालांकि कार अब एक जरूरत की चीज बन गई है | खास तौर पर बड़े शहरों में रहने वाले नौकरी पेशा लोगों के लिए कई बार कार के बिना रहना मुश्किल हो जाता है | लेकिन वित्तीय फायदे नुकसान के लिहाज से कार के लिए लोन लेना आमतौर पर घाटे का सौदा होता है loan lena sahi ya galat ऐसा इसलिए क्योंकि जिस कार को आप लोन लेकर खरीदते हैं उसकी कीमत पहले दिन से ही घटने लगती है | और जब तक आप कार का लोन चुकता कर असल में उसके मालिक बनते हैं उसकी कीमत काफी घट चुकी होती है | अगर आप कार को काफी लंबे समय तक अपने पास रखते हैं तो भी आखिरकार 1 दिन उसकी लाइफ पूरी हो जाती है और आपको एक नई कार खरीदने के लिए फिर नए सिरे से पैसे खर्च करने पड़ते हैं | इसलिए जरूरी होने की वजह से कार खरीदने भी हो तो कोशिश कीजिए कि आपको उसके लिए लोन ना लेना पड़े | ऐसा करने पर आप एक ऐसी चीज पर बड़ी रकम लगा रहे होंगे जिसकी कीमत दिनों दिन में घटने वाली है लेकिन कम से कम आपको उस पर ब्याज तो नहीं देना पड़ेगा | 

बैंक से कब लोन लेना चाहिए 

सभी व्यक्ति को जीवन में कभी ना कभी अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए लोन लेना ही पड़ता है | कई बार व्यक्ति कर्ज को जल्दी चुकाने की इच्छा रखता है लेकिन कर्ज का अंत नहीं होता है | कर्ज के लेन-देन में वार का भी विशेष महत्व होता है | यदि व्यक्ति को किसी कारणवश लोन लेना पड़े तो वार देख कर लेना हितकर रहेगा | गुरुवार को किसी को भी लोन नहीं देना चाहिए | लेकिन इस दिन लोन लेने से लोन जल्दी उतरता है | शुक्रवार के देवता इंद्र हैं | यह मृदु संज्ञक और सौम्य वार है | शुक्रवार का दिन लोन लेने देने दोनों दृष्टि से अच्छा है |